munsi premchand jivan prichay

hi दोस्तों मैं नया ब्लॉगर हूँ | इसलिए  मेरी पोस्ट मैं हर बार थोड़ी कमी रह जाती है | इसलिए मैं कुछ नया तो नहीं पर कुछ कुछ सिकने की कोसिस करता हु | तो चोलो दोस्तों हम अपने टॉपिक पर आते है आज हम मुंसी प्रेम चंद के बारे में कुछ जानकारी देना चाहता हु |                                                                                                                                                                                                                          1  मुंसी प्रेंचन्द का जन्म 1880 में उतर प्रदेस में लमही गावों में हुआ था | उनके पिता का नाम ाजबराय लाल जो गावों के डाकखाने में काम किया करते थे | माता का नाम आनंदी देवी था | प्रेमचंद की पत्नी का नाम शिवरानी {विद्वा ] से हुआ था | उनकी सदी बचपन में हो गई थी | प्रेमचंद का वास्तविक नाम धनपतराय था | उनकी स्थानीय शिक्षा गावों में हुई थी |                                                                                                             16 वर्ष की आयु में अध्यापक का कार्य किया | इसके बाद में यूनिवर्सिटी में इंस्पेक्टर का पद मिला | 1920 में अह्सह्योग आंदोलन सुरु हुआ जिसमे उन्होंने बाग़ लिया
 उनकी विचारधरा में गाँधीवादी थी जो अहिंसा के पुजारी थे | 16 वर्ष की आयु में उनके पिता का देहांत हो गया था |                                                                                                                                                                  1936 में प्रेमचंद जी का देहांत हो गया था |                                                                                                       प्रेमचंद जी ने अपने जीवन में बहुत संघर्ष किया जिसके फलसव रूप उनकी कहानी उपन्यास के लिए उन्हें आज भी याद किया जाता है                                                                                                                           1 उपन्यास ----- रंगभूमि , गबन ,गोदान ,सेवासदन ,प्रेमाश्रम ,मंगलसूत्र                                                         2कहानिया ---------- दो बेलो की कथा , सतरंज के खिलाडी।, बड़े गर की बेटी ,पूस की रात ,नमक का दरोगा ,पांच परमेश्वर , कफ़न                                                                                                                                    3  नाटक -------कर्बला , संग्राम ,प्रेमकी तिरिवेदी                                                                                            दोस्तों अगर मेरी ये पोस्ट पसंद आये तो शेयर जरूर कर देना पोस्ट पड़ने के लिए ध्न्यवाद और आपको     

Comments

Popular posts from this blog

kavi surdaas jivan prichye

भारतीय धर्मों के बारे में basic jankari muslim dharm jain dharm parsi dharm gk se संबंधित जानकारीWHAT IS THE HINDULISM

UNIVERSE KE BAARE ME BRAHMAND KYA HAI BRAHMAND KI KHOJ IN HINDI ब्रह्माण्ड की जानकारी[ हिंदी में ]