kavi surdaas jivan prichye

hi दोस्तों आज हम पढेंगे महाकवि सूरदास जी का साहित्यिक परिचय जिन्होंने अपनी कविताओं से पूरे भारतवर्ष में अपना नाम कमाया जिनको आज कविताओं के लिए याद किया जाता है.|                                                           .                          जीवन परिचय  ******- अष्टछाप का जहाज का नाम कहलाने वाले परम कृष्ण भगत महाकवि सूरदास जी का जन्म 1478 इसी   मैं हुआ इनके जन्म स्थान के विषय में विद्वानों में मतभेद है कुछ विद्वान इनका जन्म स्थान आगरा के समीप रूम कथा या रेणुका क्षेत्र को मानते हैं तो कुछ अन्य विद्वानों का मानना है किंकर जन्म स्थल दिल्ली तथा फरीदाबाद के बीच सीही नामक ग्राम है यह शाश्वत ब्राह्मण तथा चंदरबरदाई के वंशज माने जाते हैं बाल्यावस्था से ही अद्भुत प्रतिभा के धनी तथा ग्राम विद्या में निपुण थे इसलिए बचपन में उनकी ख्याति दूर दूर तक फैल गई थी अनेक लोग उनके सेवक बन गए थे तथा यह स्वामी रूप में पूजे जाने लगी थी तरुणावस्था आते आते इन्हें संसार से विरक्ति हो गई थी तथा यह मथुरा के विश्राम घाट पहुंच गए थे लेकिन वह थोड़े दिन रहने के बाद वृंदावन मथुरा के बीच यमुना किनारे देवघाट पर रहने लगी थी यहीं पर इनकी मेट स्वामी वल्लभाचार्य से हुई तथा उन्होंने अपना गुरु मान लिया वल्लभाचार्य के शिष्य बनने के पूर्व श्री कृष्ण से संबंधित व    दृश्य भाव  के पद गाया करते थे परंतु   वल्लभाचार्य की प्रेरणा के बाद में उन्होंने  सखी  वात्सल्य वह माधुरी भाव के पदों की रचना की श्रीनाथजी के मंदिर में भजन कीर्तन के लिए नियुक्त किया था सूरदास जी नेत्रहीन थे परंतु यह आज तक निश्चित नहीं हो पाया कि यह जन्मांध थे अथवा बाद में अंधे हुए श्री नाथ जी के मंदिर के समीप स्थित पारसोली गांव में सन 1583 ईसवी मैं इनका परलोकवास हुआ.|                                        रचनाये  ----- वैसे तो सूरदास जी की 24 रचनाओं का उल्लेख मिलता है परंतु उनकी निम्नलिखित तीन रचनाएं प्रमाणित प्रसिद्ध मान जाती है.                                           1   सूरसागर-- उनकी रचना भागवत की पद्धति पर द्वादश स्कन्धों में भी है                                                                                                               2 सूरसारावली -- यह 1107 छंदों का ग्रंथ है.     .                                             साहित्य लहरी -- सूरदास के प्रसिद्ध दृष्ट कूट पदों का संग्रह है.                                                                                                                  3 साहित्यिक विशेस्ताएं  --- महाकवि सूरदास जी की साहित्य की अन्यतम विशेषता अन्य भाव से भगवान श्रीकृष्ण की आराधना करना है उन्होंने अपने समस्त काव्य में भगवान श्री कृष्ण की सगुण साकार ईश्वर के रूप में प्रतिष्ठा करते हुए आराधना की है यही कारण है कि वैसे तो सूरदास में विष्णु के 24 अवतारों का उल्लेख है परंतु कृष्ण अवतार का वर्णन इसका मूल्य है उन्होंने भी  विनय  दास्य वात्सल्य व माधुये भाव से भगवान श्रीकृष्ण की  आराधना की है उसके साहित्य की दूसरी महत्वपूर्ण विशेषता इनका बाल लीला वर्णन है अपने बाल लीला से संबंधित पौधों में उन्होंने ब्रजभूमि के मुजरे परिवेश गोपिकाओं के हाओ भाव  गोप बालकों के डोले और स्वभाव की मनोरम एवं धार्मिक चित्रण के साथ-साथ बाल कृष्ण की लीलाओं की जो सजीव चित्र अंकित किए हैं विश्व साहित्य में अन्यत्र दुर्लभ है इनके द्वारा प्रस्तुत बाल लीला की जीव चित्र देखकर कुछ विद्वानों को लगता है कि यह जन्मांध अंधे नहीं थे|                                                                                                                                                                                              
                                                                                                                                                                                              1 बाल लीलाओ का वर्णन ---–- कविवर सूरदास नहीं सूरसागर में बालक श्रीकृष्ण की बाल लीलाओं का बड़ा ही मनोहरी चित्रण किया है श्रीकृष्ण की विभिन्न विशेषताओं और क्रियाओं का विस्तृत वर्णन करने में सफल हुए हैं जिजामाता शिशु कृष्ण को ही कहीं तो पालने में झूले देती है कहीं उसे  झुलाती है दुलार करती है और मल्हार गाती है वह चाहती है कि कृष्ण को जल्दी से नींद आ जाए \                                                                                              भग्तिभावना ---- सूर काव्य में वात्सल्य को अत्यधिक महत्व दिया है इसका प्रमुख कारण है कि सूर  ने पुष्टिमार्ग में दीक्षा प्राप्त की थी आचार्य वल्लभ नेवी प्रभु के बाल रूप की आराधना करें अत्यधिक बल दिया था सूरसागर में वात्सल्य संबंधी पदों की संख्या 580 के लगभग है इन पदों में उन्होंने कृष्ण के जन्मोत्सव संस्कार उनकी बाल छवि उनकी वेशभूषा बाल चेष्टाओं को धन गोचारण बालकृष्ण के मन के भाव का बड़ा ही हार्दिक राही वर्णन किया है कवि ने कृष्ण की बाल दिलाओ से नंद और यशोदा दोनों को ही प्रसन्न करते हुए दिखाया है\                                                                                                                                                 
                                                                                                             
                                              3
                                                                                                                          1
                                     
                                                                                                                                                              2-
                                                                                                                                                                                                                                                                                             2 
वश्य सूरदास हिंदी के प्रथम कवि हैं जिन्होंने बाल वर्णन केवल रुचि ली इतना कुछ वर्णन  कर लिया कर दिया यूरो की कमी के कारण कुछ भी नहीं छोड़ा इसलिए उचित ही कहां गए हैं सूरी वात्सल्य है और  वात्सल्य  ही सुर है बाल लीला के पदों में तो मानव वात्सल्य रस का सागर उम्र दे लगता है कभी कहीं श्री कृष्ण जन्म उत्सव का वर्णन करते हैं तो कहीं उनके घुटनों को बल  सरकने का| 

Comments

Popular posts from this blog

भारतीय धर्मों के बारे में basic jankari muslim dharm jain dharm parsi dharm gk se संबंधित जानकारीWHAT IS THE HINDULISM

UNIVERSE KE BAARE ME BRAHMAND KYA HAI BRAHMAND KI KHOJ IN HINDI ब्रह्माण्ड की जानकारी[ हिंदी में ]